तेलंगाना का इतिहास संस्कृति, हिस्ट्री | Telangana History Hindi Brief Itihas

Telangana History Hindi, राजधानी, वेशभूषा, संस्कृति, भाषा Telugu, Books, Andhra Pradesh, तेलंगाना की जानकारी, तेलंगाना राज्य का इतिहास, हिस्ट्री, State Ancient, Sankriti

तेलंगाना को हम भारत के 29 वां राज्य के रूप में जानते हैं भारत में आजादी के पहले Telangana हैदराबाद का हिस्सा था और हैदराबाद का राजा निजाम था ।

तो यूं कहें तो इस पर पहले निजाम का शासन हुआ करता था नए राज्य बनने की मांग आजादी से पहले चल रही थी।

जो 2009 में एक नया मोड़ ले कर आया था फिर भी यह पारित नहीं हो पाया और अंततः 2 जून 2014 को यह भारत के Andhra Pradesh से अलग होकर 29 वे राज्य के रूप में घोषित किया गया ।

तेलंगाना राज्य आंध्र प्रदेश के 23 जिलों से अलग होकर 10 जिले का एक नया राज्य बना था जो आगे चलकर 33 जिला हो चुका है ।

Telangana State मे अभी 119 विधानसभा सीट और 17 लोकसभा सीट है जिस के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव द्विसदनीय है ।

तो चलिए अब तेलंगाना राज्य के बारे में विस्तार से इसकी संस्कृति, भाषा, हिस्ट्री जानने का प्रयास करते हैं।

तेलंगाना का इतिहास संस्कृति, हिस्ट्री Telangana History Hindi Brief Itihas
तेलंगाना

तेलंगाना की जानकारी (Telangana State Ki Jankari)

राजधानी (Rajdhani) हैदराबाद (संयुक्त राजधानी)
राज्य से अलग हुआ आंध्रप्रदेश (Andhra Pradesh)
सबसे बड़ा शहर (Popular City) हैदराबाद
जनसंख्या (Population) 3,51,93,978
घनत्व (Density) 306 /किमी²
क्षेत्रफल (Area) 1,14,840 किमी²
कुल ज़िले (Total District) 33
राजभाषा तेलुगू (Telugu)
राज्य गठन 02 जून 2014
प्रसिद्ध भोजन (Famous Food) इटली, दोसा
राज्यपाल तमिलसाई सौंदरराजन- 2019
मुख्यमंत्री (Chief Minister) के. चंद्रशेखर राव
विधान परिषद 46 सीटें
विधान सभा सीट 119 सीटें
लोक सभा सीट 17 सीटें
उच्च न्यायालय (High Court) हैदराबाद (Hydrabad)
डाक सूचक संख्या 50
वाहन अक्षर (Vehical Code) TS

तेलंगाना का इतिहास (Telangana Ka Itihas, Brief History)

भारत में आजादी के पहले तेलंगाना हैदराबाद का हिस्सा था क्योंकि पहले भारत में राजाओं का शासन हुआ करता था तो इस समय हैदराबाद का शासन निजाम करता था।

भारत के 29 वे राज्य Telangana का नया राज्य बनने का सफर बहुत लंबा रहा है इसकी मांग आजादी से पहले कई बार हो चुकी थी ।

लेकिन यह हर बार संसद में पारित नहीं हो पा रहा था और एक बार फिर 2009 में चंद्रशेखर राव के अनशन के बाद से इसकी मांग और बढ़ गई थी।

फिर भी इस समय यह सरकार द्वारा पारित नहीं हो पाया और अंततः 18 फरवरी 2014 को तेलंगाना राज्य के लिए फिर से लोकसभा में विधेयक पारित किया गया जिसकी मंजूरी 2 दिन बाद ही मिल गई और 2 जून 2014 को इसको नया राज्य बना दिया गया।

जिसमें से तेलंगाना आंध्र प्रदेश से अलग होकर नया राज्य बना तो अगर हम Andhra Pradesh कि 2014 में कुल जिले की बात करें 23 District हुआ करता था जिसमें से 10 District Telangana State को दिया गया इस तरह से इसका गठन 29 वा राज्य के लिए किया गया।

जब तेलंगाना राज्य का गठन किया गया तो उसी समय हैदराबाद को 10 साल की आंध्र प्रदेश और तेलंगाना राज्य की संयुक्त राजधानी घोषित किया गया है। मतलब 2024 तक दोनों राज्य की Rajdhani Hydrabad ही रहने वाली है।

जिस तरह से पंजाब और हरियाणा की Rajdhani चंडीगढ़ हुआ करती है उसी तरह तेलंगाना राज्य की भी राजधानी हैदराबाद ही है और तेलंगाना की सबसे बड़ी खासियत हैदराबाद ही है क्योंकि यह इस राज्य की सबसे बड़ी और पापुलर शहर है ।

जब यह New State बनाया गया तब इसको 10 जिला दिया गया था जिसको पुनर्गठित करके अक्टूबर 2016 में 21 जिला और जोड़ दिया गया जिसके चलते 31 जिला इस राज्य में हो गई जो आगे चलकर 2019 में दो जिला और बनाया गया और अभी के समय में यहां कुल 33 जिला हो चुका है।

नया राज्य बनने के समय के जिले

जब यह नया राज्य बनाया गया तब इनको 10 जिला दिया गया था। जो इस तरह से है –

हैदराबाद
आदिलाबाद
महबुबनगर
मेदक
करीमनगर
वारंगल
निजामाबाद
रंगा रेड्डी
खम्मम
नलगोंडा

वर्तमान मे तेलंगाना के कुल जिले (Telangana State Total District)

Telangana State का जब हुआ था तब यहाँ कुल जिलो की संख्या 10 थी जो आगे चलकर 33 हो गयी जो इस तरह से है-

हैदराबाद
आदिलाबाद
महबुबनगर
मेदक
करीमनगर
वारंगल
निजामाबाद
रंगा रेड्डी
खम्मम
नलगोंडा
सिद्धिपेट
जनगाव
विकाराबाद
जयशंकर
जगतियल
पेदापल्ली
वारंगल(ग्रामीण)
यदादरी
कमारेड्डी
मन्चेरियल
महाबुबाबाद
राजन्ना
असिफाबाद
कोठागुदेम
वानापर्थी
सुर्यपेट
निर्मल
नगरकुर्नूल
जोगुलाम्बा
मेदचल/मल्कैगिरी

धर्म और भाषा (Telangana Religion And Language)

तेलंगाना राज्य की कुल जनसंख्या मे 84 परसेंट हिंदू, 12.4 परसेंट मुस्लिम और 3.2 परसेंट सिख और ईसाई धर्म के लोग निवास करते हैं।

यहां की भाषा की बातें करें तो यहां लोग ज्यादा कर Telugu भाषा ही बोलते हैं जिसमें से 76 परसेंट तेलुगू 12 परसेंट लोग उर्दू और 12 परसेंट अन्य भाषाएं बोली जाती है यहां का प्रमुख शहर हैदराबाद, वारंगल, खम्मय, करीमनगर और निजामाबाद है।

तेलंगाना की संस्कृति (Telangana Ki Sankriti Hindi)

तेलंगाना मे पहले राजाओं का शासन हुआ करता था इसी कारण यहां की संस्कृति भी कुछ पुराने रीति रिवाज के हिसाब से ही चलता है।

यहां निजाम फारसी मुगल तथा साउथ इंडिया की ही Sankriti का ज्यादा प्रभाव देखने को मिलता है यहां कई तरह के शास्त्रीय संगीत पेंटिंग, बुरा कथा, लोक नृत्य, पेरणी, शिवतांडवम नित्य तथा कोलाहल देखने को मिलता है।

Telangana State पहले आंध्र प्रदेश का हिस्सा होने के कारण थोड़ी बहुत वहां की भी संस्कृति यहां देखी जाती है।

इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह राज्य काफी छोटा होने के कारण यहां की Sankriti काफी अद्भुत और लोगों में काफी ज्यादा प्रचलित है।

तेलंगाना के लोग अपनी संस्कृति का जायजा अपनी ही भाषा में करते हैं यहां विदेशी कल्चर बहुत कम देखने को मिलता है और यहां की खानपान भी पूरी तरह देसी और साउथ इंडियन होती है तो इस तरह से यहां की संस्कृति हमको देखने को मिलता है।

तेलंगाना का भोजन (Telangana Ka Bhojan)

तेलंगाना में ज़्यादातर व्यंजन रोटी आधारित होते हैं-

जॉन्न रोटी (Jonn Roti)
डिब्बा रोटी (Dibba Roti)
सज्जा रोटी (Sajja Roti)
उप्पदी पिंडी ( Uppudi Pindi)
Chakinalu
Sakinalu

तेलंगाना की कुछ रोचक जानकारी (Telangana Interesting Fact)

तेलंगाना को भारत के 29 वे राज्य के रूप में जाना जाता है

2014 में जब तेलंगाना राज्य गठित किया गया था तो यह भारत का बहुत छोटा राज्य हुआ करता था यहां जिलों की संख्या भी बहुत कम हुआ करती थी जो आगे चलकर पुनर्गठित करके बढ़ाया गया है।

तेलंगाना राज्य की खानपान की बात करें तो यहां साउथ इंडियन फूड ही सबसे ज्यादा खाया जाता है जिसमें से मटन, इटली, डोसा सबसे ज्यादा फेमस फूड है और यहां चाइनीस फूड लगभग ना के बराबर ही चलता है।

telangana State की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां के लोग अपनी Telugu भाषा को ही सबसे ज्यादा अहमियत देते हैं यहां हिंदी इंग्लिश बहुत कम चलता है इसीलिए यहां जाना है तो थोड़ी बहुत तेलुगू की जानकारी हो तभी हम अच्छे से यहां घूम सकते हैं जान सकते है।

इस राज्य की और रोचक बातें करें तो यह देश का बारवा सबसे बड़ा राज्य बन गया है और इसकी क्षेत्रफल की बात करें तो एक्सपर्ट के मुताबिक इंग्लैंड के बराबर यहां का क्षेत्रफल है उसी के साथ इसकी आबादी कनाडा देश के बराबर आंकी गई है।

2014 में जब Telangana राज्य बना तो यहां के सबसे पहले मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव बने थे जो वर्तमान में भी यहां के मुख्यमंत्री हैं और वही यहां की राज्यपाल की बात करें तो श्रीनिवासन लक्ष्मी नरसिम्हा है।

तेलंगाना राज्य की और रोचक बातें करें तो जैसे हम पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ को कहते हैं उसी तरह से यहां भी Andhra Pradesh And Telangana की राजधानी हैदराबाद ही है जो राज्य गठन के समय 10 वर्षों के लिए गठन किया गया है।

तो दोस्तो कैसी लगी तेलंगाना राज्य का इतिहास Telangana History In Hindi हमे कॉमेंट मे जरूर बताए और हो सके तो जानकारी अपने दोस्तो मे शेयर करे।

और पढे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here