अमोघ लीला प्रभु का जीवन परिचय [Wife, Net Worth, Salary] | HG Amogh Lila Prabhu Biography Hindi ISKCON

HG Amogh Lila Prabhu Biography Hindi ISKCON Wife Net Worth Salary, about leela ji das Wikipedia date of birth, education qualification अमोघ लीला प्रभु quotes linkedin age, married family विकिपीडिया birthdate parents who is prabhuji height swami dwarka early life birthday birthdate who is

आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे अमोघ लीला प्रभु का जीवन परिचय /Biography of Amogh Leela Prabhu दोस्तों आज की तारीख में हर कोई अधिक से अधिक पैसे कमाने के बारे में सोचता है।

क्योंकि सभी का ख्वाब होता है कि उनके पास गाड़ी बंगला है तो आराम की चीज हो लेकिन आज हम एक ऐसे संत गुरु के बारे में बताऊंगा जिन्होंने कम उम्र में ही अपना घर छोड़कर समाज की भलाई के लिए उन्होंने प्रभु की शरण में जाकर संत बनने का निश्चय किया।  

ऐसे ही धार्मिक व्यक्ति के बारे में इस आर्टिकल में बात करेंगे उनका नाम HG Amogh Leela Prabhu ऐसे में आप लोगों के मन में सवाल आता होगा कौन है ‘ परिवार विवाह किया है कि नहीं उनकी संपत्ति कितनी है।

आमोघ लीला प्रभु जी की Qualification क्या है उनके माता पिता कौन है ऐसे आने के सवाल के जवाब आप जाना चाहते हैं तो मैं आपसे अनुरोध करूंगा कि इस पोस्ट को आगे तक पढ़े।

अमोघ लीला प्रभु

अमोघ लीला प्रभु का जीवन परिचय (Amogh Lila Prabhu Biography In Hindi)

नाम (Real Name)आशीष अरोड़ा
जन्म (Date of Birth)1 जुलाई
आयु (Age)42 वर्ष
जन्म स्थान (Birth Place)लखनऊ
पिता का नाम (Father Name)उपलब्ध नहीं है
माता का नाम (Mother Name)उपलब्ध नहीं है
पत्नी (Marital Status/WifeUnmarried
पेशा (Occupationसंत, प्रेरक वक्ता, सामाजिक कार्यकर्ता
बच्चे (Children)NA
भाई (Brother)ज्ञात नहीं
बहन (Sister)2 बहने
एजुकेशन (Education/Qualification)सॉफ्टवेयर इंजीनियर
धर्म (Religion)हिन्दू
Caste (Cast)ज्ञात नहीं
अवार्ड (Award)ज्ञात नहीं
Net Worthज्ञात नहीं
Youtube ChannelClick Here
InstagramClick Here
TwitterClick Here
FacebookClick Here

अमोघ लीला प्रभु जी कौन है?

Shri HG Amogh Leela Prabhu आज की तारीख में ISKCON Dwarka मंदिर के उपाध्यक्ष हैं जैसा कि आप लोग जानते हैं कि इस्कॉन मंदिर भगवान श्री कृष्ण का एक जाना माना मंदिर है।

और ऐसे में भगवान श्री कृष्ण के जो भी भक्त होते हैं उनका रुझान भगवत गीता की तरफ ज्यादा होता है और अमोघ लीला प्रभु भगवत गीता में लिखे हुए चीजों के माध्यम से युवाओं को सही रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं ।

भारत में किस प्रकार सनातन धर्म का प्रचार और प्रसार हो इसका प्रमुख काम ISKON मंदिर भारत में करती है इनका असली नाम आशीष अरोड़ा है।

अमोघ लीला प्रभु जी का परिवार (Amogh Lila Prabhu Family)

अगर हम उनके परिवार के बारे में बात करें तो उनके घर में इनके माता-पिता के अलावा दो बहने हैं जिनकी शादी हो गई है।

इनके पिता Raw में ऑफिसर के पद पर थे और वह रिटायर होकर दिल्ली चले गए हैं जहा उनके माता के साथ रहते हैं । पिता और माता का क्या नाम है इसके बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं है ना ही उनके बहनों के बारे में।

विवाह (Marriage, Wife)

अमोघ लीला प्रभु जी का विवाह नहीं हुआ है ब्रह्मचारी रहने का प्रण लिया ऐसा कहा जाता है कि जब वह छोटे थे तब उनके घर में एक ज्योतिषी आया था और उन्होंने बताया कि यह बच्चा बड़ा होकर बहुत बड़ा संत बनेगा और यह घर छोड़कर चला जाएगा तभी से उनके मन में संत बनने की भावना आ गई।

एजुकेशन (Amogh Lila Prabhu Qualification, Education)

लीला दास का जन्म लखनऊ में हुआ था उनके पिताजी Raw ऑफिसर पद पर काम करते थे इसलिए उनकी पोस्टिंग विभिन्न शहरों में होती थी।

उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा मिजोरम, गंगटोक, आइजोल, दार्जिलिंग से प्राप्त की है उन्होंने 12वीं की कक्षा की पढ़ाई की है इसके बाद वह अपना घर छोड़कर 4 महीने तक दूर रहे उसके बाद फिर वापस घर आया और उन्होंने सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पढ़ाई पूरा किया।  

अमोघ लीला प्रभु करियर (Carrier)

Amogh Lila Das के करियर के बारे में बात करे तो उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप मे नौकरी करते हुये किया।

लेकिन बाद में उन्होंने इस नौकरी को छोड़ दिया और वह द्वारिका के ISKCON मंदिर में आकर आजीवन ब्रह्मचारी रहने का का निर्णय लिया और वहीं पर उन्होंने दिन रात लोगों की सेवा की और प्रभु के चरणों में जाकर अपना जीवन व्यतीत करने के लिए वह प्रार्थना करने लगे ।  

अमोघ लीला अमोघ लीला प्रभु आध्‍यात्‍म की ओर कैसे आये  (Amogh lila prabhu spiritual journey प्रभु के गुरु कौन हैं )

श्रील प्रभुपाद अमोघ लीला प्रभु के गुरु हैं ऐसा कहा जाता है कि एक दिन अपने गुरु का भगवत गीता पर एक प्रवचन सुन रहे थे उनसे वह बहुत ज्यादा प्रभावित हुए हैं।

और उनके मन में भगवान के प्रति आध्यात्मिकता की भावना का जबरदस्त संचार हुआ और वह निश्चय किया कि वह अपनी धार्मिक शिक्षा इनके शरण में पूरा करेंगे लेकिन इसके पहले ही श्रील प्रभुपाद ने अपना शरीर छोड़ दिया इसके बाद उन्होंने गुरु गोपाल कृष्ण जी के द्वारा 2006 में अपनी धार्मिक शिक्षा ग्रहण की है।  

अमोघ लीला प्रभु आध्‍यात्‍म की ओर कैसे आये (Amogh lila prabhu spiritual journey)

उनके बारे में ऐसा कहा जाता है कि बचपन से ही इनका झुकाव आध्यात्मिकता की ओर ज्यादा है जब यह सातवीं कक्षा में पढ़ते थे तो उनके किताब में गीता के 5 श्लोक थे ।

इसके अंतर्गत उन्होंने पढ़ा की मन बहुत चंचल है, मन बहुत बलवान है, यह किसी की भी नहीं सुनता।

ऐसे ही Bhagwat Gita के 5 से 7 पढे तो अपने टीचर से पूछा तो टीचर ने कहा कि भगवत गीता एक बहुत धार्मिक ग्रंथ है इसके अंदर 700 श्लोक हैं।

इसके बाद ही उनके मन में यह बात आई कि अगर उन्होंने 7 श्‍लोकों ने मेरी इतनी पोल-पट्टी खोल दी तो 700 श्‍लोक तो मेरे पूरे जीवन के बारे में बता देंगे, तभी उन्होंने निश्चित किया कि वह पूरे भगवत गीता का अध्ययन करेंगे इस प्रकार उनका झुकाव आध्यात्मिकता की ओर बड़ा।

Amogh Lila Prabhu का सामाजिक कार्य (Social Work)

अगर हम इनके सामाजिक कार्य के बारे में बात करेंगे तो आप लोगों को मालूम होगा कि ISKON मंदिर अनेकों प्रकार के सामाजिक कार्य करती है.

ऐसे में इस मंदिर के उपाध्याय अमोघ लीला प्रभु जी ने अनेकों प्रकार के सामाजिक कार्य इस मंदिर के माध्यम से किया है ।

ताकि समाज का विकास हो सके और ऐसे अनेकों युवा हैं जो दिशा भ्रमित हो जाते हैं उनको सही राह पर चलाने के दिशा में भी यह हमेशा अपने प्रवचन के माध्यम से उनको प्रेरित करते हैं ।

इस्कॉन मंदिर क्या है (ISKON Mandir Kya Hai)

इस्कॉन भगवान श्री कृष्ण का एक पवित्र मंदिर है जहां पर भगवान श्री कृष्णा अपने भाई बलराम के संग में दिखाई पड़ेंगे।

ISKON का पूरा नाम International Society for Krishna Consciousness है जिसे हिंदी में अंतर्राष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ या इस्कॉन कहा जाता है।

इस मंदिर का पावन भजन हरे रामा हरे रामा कृष्णा है. आपने अक्सर विदेशियों को ये गुनगुनाते सुना होगा ।

इस मंदिर की पहली स्थापना भारत में बल्कि अमेरिका के न्यूयॉर्क सिटी में श्रीमूर्ति श्री अभयचरणारविन्द भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद ने 1966 में किया था सबसे बड़ा इस्कॉन का मंदिर भारत के बेंगलुरु शहर में स्थित है ।

अमोघ लीला प्रभु धार्मिक कार्य (Amogh Leela Prabhu Religion Work)

अगर हम उनके धार्मिक जीवन के बारे में बात करें तो जाहिर सी बात है कि इस्कॉन मंदिर एक धर्म का प्रतीक है और यहां पर धर्म से जुड़े अनेकों प्रकार के कार्य किए जाते हैं।

इस मंदिर में अगर आप घूमने के लिए जा सकते है अगर आपके घर में कोई आर्थिक सामाजिक या किसी प्रकार की परेशानी है और आप घर छोड़ कर बाहर कहीं चले जाने की कोशिश कर रहे हैं और आप इस मंदिर में जा सकते हैं।

आपको यहां पर मानसिक शांति की प्राप्ति होगी इस मंदिर में आपको दो टाइम बिना कोई पैसे दिए भोजन भी दिया जाएगा और नहाने धोने कि यहां पर उचित व्यवस्था की गई है।

आप चाहे तो मंदिर के अंदर आजीवन रह सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको ब्रह्मचारी रहने का प्रण लेना होगा मंदिर के माध्यम से हिंदू धर्म का प्रचार प्रसार पूरे विश्व में किया जा रहा है।

सबसे बड़ी बात है कि इस मंदिर के माध्यम से लोगों को भगवान के करीब लाने के लिए लोगों को धर्म के बारे में व्यापक और ज्ञानवर्धक जानकारी दी जाती है ताकि लोग अधिक से अधिक भगवान से जुड़कर आध्यात्मिकता का आनंद उठा सकते हैं।  

मोघ लीला दास अवार्ड (HG Amogh Leela Prabhu Award)

अभी तक इनको सरकार की तरफ से कोई अवार्ड नहीं दिया गया है लेकिन आमोघ लीला प्रभु जी जो कार्य कर रहे हैं उसको देखते हुए हम कामना करते हैं कि बहुत जल्दी उनको सरकार की तरफ से अवार्ड दिया जा सकता है ।

अमोघ लीला दास जी की कुल संपत्ति (Networth, Salary)

इनकी कुल कितनी संपत्ति है इसके बारे में कोई भी अधिकारीक ज्ञान इंटरनेट पर या इनके द्वारा नहीं दिया गया है ऐसे में हम नहीं बता सकते हैं कि इनकी संपत्ति कितनी है।

अमोघ लीला प्रभु की रोचक बातें (Interesting Fact)

इनकी सबसे बड़ी रोचक बात यह है कि अमोघ लीला प्रभु एक संत होने के साथ-साथ एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी है।

इनकी सबसे बड़ी रोचक बात यह है कि यह युवाओं को मोटिवेट भी करते हैं और साथ में अपने शब्दों को एक्टिंग के जरिए भी लोगों के सामने प्रकट करते हैं जिससे लोगों में रोमांच भर जाता है।

HG Amogh Lila Prabhu और सबसे बड़ी रोचक बात यह है कि इन्होंने अपने अच्छे खासे परिवार को और इंजीनियर के रूप में अपनी पहचान बनाने के बावजूद भी इन्होंने अपना घर छोड़कर संत बनने का संकल्प लिया

आज के समय में अमोघ लीला प्रभु इस्कॉन द्वारिका का मुख्य संत में से एक है क्योंकि जहाँ ISKCON का नाम आता है वहां अमोघ लीला प्रभु का भी नाम आता ही है।

इनकी और रोचक बातें करे तो लीला प्रभु अपने धर्म का प्रचार करते हुये कई नेताओ के साथ भी देखा गया है जहा वो लोगो को भगवत गीता वितरण करते है।

Other Post:

Product Buy On Amazon

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here